COVID-19: क्या खाने-पीने की चीजों में है कोरोना वायरस?

कोरोना वायरस का हमारे जीवन पर इस तरीका से प्रभाव पड़ा है जिससे हम कोरोना वायरस से काफी भयभीत रहने लगे और बहुत सारी अफवाहों में भी आने लगे हैं ।जैसे कि बहुत सारे लोग कंफ्यूज होते हैं कि क्या खाने पीने वाली चीजों में न्यूज़पेपर, दरवाजे या फिर पानी में
कोरोना वायरस हो सकता है।

read more…Coronavirus Vaccine: भारत में कोरोना वायरस के 30 वैक्सीन पर चल रहा है काम

कोरोना वायरस का भारत में प्रभाव

कोरोना वायरस के महामारी से पूरी दुनिया ही इस समय परेशान चीन के बाद अमेरिका इटली फ्रांस स्पेन और अब भारत जैसे देश भी उसके सामने पस्त हो चुके हैं। पूरी दुनिया में help emergency के अलावा Lockdown की भी स्थिति बनी हुई जैसा कि भारत में भी बहुत सारे मामले दिन प्रतिदिन बढ़ते जा रहे हैं। इससे इस महामारी की गंभीरता का अंदाजा हम लगा सकते हैं ।

आज की मौजूदा स्थिति में भारत में कुल 52952 केस देखने को मिल चुके हैं। जिसमें से 1783 लोगों के इस महामारी की वजह से मौत भी हो चुकी हैं इन सारे आंकड़ों को देखते हुए लोगों के मन में अलग-अलग तरीके से बहुत सारी गलतफहमी भी हो गयी है | इससे गवर्नमेंट भी अपवाहों से बचने की सलाह दे रही है तो चलिए देखते हैं|

read more…How does COVID-19 spreads its symptoms and some of the facts

हमारे स्टडी रिपोर्ट के अनुसार अभी तक ऐसा कोई मामला नहीं आया। जिसमें खाने की किसी भी चीज की वजह से किसी को कोरोना वायरस हुआ या खाने की चीजों से इसका अभी तक कोई खुलासा नहीं हुआ। इसीलिए आप अफवाह में ना आए ,लेकिन आपको खाने पीने की चीजों को लेकर थोड़ी सतर्कता बरतनी चाहिए जैसे कि खाने के लिए फल या सब्जियों को अच्छे से धो लिया जाना चाहिए।

चलिए देखते हैं कि किसी भी चीज पर कोरोना वायरस का इफेक्ट कितने दिन तक रह सकता है…

खाने की चीजों पर: अबतक ऐसा कोई मामला नहीं आया है, जिसमें खाने की चीजों से इसका एक्सपोजर हुआ हो. लेकिन बेहतर तरीका है कि खाने के पहले फल या सब्जियों को खूब अच्छे से धो लिया जाए. उसे साफ ब्रश से नल के नीचे धो लेना बेहतर तरीका है. सब्जियां अच्छे से पकी होनी चाहिए.

पीने के पानी में: यह पीने के पानी में नहीं पाया जाता है. कोरोना वायरस की वजह से आपका वाटर सप्लाई, फिल्टर या वाटर ट्रीटमेंट प्लांट संक्रमित नहीं होगा.

मेटल: यह दरवाजे के हैंडल या सिटकनी, ज्वैलरी या सिल्वरवेयर पर 5 दिनों तक सक्रिय रह सकता है.

लकड़ी: यह फर्नीचर या डेकिंग पर 4 दिन तक सक्रिय रह सकता है.

प्लास्टिक: यह सबवे, बस सीट, एलीवेटर के बटन, फूड पैकेट पर भी 2 से 3 दिन तक जीवित रह सकता है.

स्टेनलेस स्टील: फ्रीज, पैन, सिंक और कुछ पानी के बोतलों पर 2-3 दिन.

कॉपर: कुकवेयर जैसी चीजों पर 4 घंटे

एल्यूमीनियम: 2 से 8 घंटे

शीशा: 5 दिन. इसमें मिरर, दरवाजे, गिलास या कप हो सकते हैं.

पेपर: कुछ पेपर पर यह सिर्फ कुछ मिनटों तक रह सकते हैं. जबकि कुछ पेपर इन्हें 5 दिन भी कैरी कर सकते हैं.

एक बहुत बड़ी अपवाह कि चिकन में कोरोना पाया गया है। इन बातो को WHO (World Health Organization)ने भी खंडन किया है और कहा की इसका कोई प्रमाण अभी तक नहीं आया है की चिकन में कोरोना वायरस पाया जाता है। ऐसी अपवाहों से बचे और अपना ख्याल रखे ।

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *